क्या मदद को आये विधायक पर भीड़ द्वारा कीचड़ फैंकना जायज़ है ?

0
272

भारत में लोकतंत्र है, लोकतंत्र मतलब जनता इस देश में सर्वोपरि है, लेकिन सवाल यह है कि असली जनता कौन है ? क्या जनता किसी मोहल्ले में इकट्ठा हुए कुछ लोग है जो छोटी बड़ी बात पर आक्रोशित होकर किसी पर भी हमला करते है क्या जनता वो महिला है जो प्रदेश के मुखिया को चप्पल से मारने की धमकी देती है ?

जनता द्वारा जब प्रतिनिधि चुना जाता है तब वह अपने समूचे चुनाव क्षेत्र की जनता द्वारा चुना जाता है,  न कि किसी मोहल्ले से, जनता का नाराज़ होना जायज़ है और चुनाव जनता को यह अधिकार देते है की सही काम न करने वाले व्यक्तियों को वह नापसंद करे. परन्तु क्या उत्तराखंड में नाराज़गी आक्रोश का रूप ले रही है, या इसके पीछे भी राजनीतिक साजिश है ?

जनता द्वारा चुने हुए प्रतिनिधि अपने क्षेत्र के अलग अलग क्षेत्रो में दौरा करके प्राकृतिक व् अन्य अपदाओ और समस्याओ का दौरा समय समय पर करते है जिससे नुक्सान का अंदाज़ा लग सके, क्षेत्र के लोगो को उचित सहायता मिल सके और अधिकारियो को सही निर्देश भी दिया जा सके. लेकिन यदि जायजा लेने आये विधायक पर कुछ ही मिनटों में कीचड़ फैंक कर और अपशब्द बोले और उन्हें वहां से भगा कर नाराज़गी व्यक्त की जाए तो लोकतंत्र में यह भी स्वीकार्य नहीं है.

उत्तराखंड में राजपुर के विधायक खजानदास पर जनता का आक्रोश और मुख्यमंत्री को कुछ दिन पहले महिला द्वारा चप्पल से मारने की धमकी देना दोनों ही स्वीकार्य योग्य घटना नहीं हैं. जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधियों से नाराज़गी व्यक्त करने के जायज़ तरीके है जिसका इस्तमाल उन लोगो को अवश्य करना चाहिए जो जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधियों से इस तरह का व्यवहार करते है.

हम आपको बता दे कि देहरादून में दो दिन पहले हुई तेज़ बारिश के रिस्पना के आसपास रहने वाले लोगो के घरो में पानी घुस गया था, अगली ही सुबह देहरादून प्रशासन हरकत में आया और देहरादून शहर में जिला मजिस्ट्रेट एसए मुरुगेसन और नगर निगम के कमिश्नर विजय कुमार जोगदांडे ने संयुक्त रूप से देहरादून और सिंचाई विभाग नगर निगम द्वारा नदियों के किनारे रहने वाले लोगों के घरों की रक्षा के लिए किए गए कार्यों का निरीक्षण किया। जिला मजिस्ट्रेट ने नदियों के तट पर मानव आबादी के संभावित खतरे के साथ तटबंधों और बाढ़ संरक्षण दीवारों की स्थिति का आकलन किया।

ठीक एक दिन बाद राजपुर के विधायक खजानदास भी स्थिति का जायजा लेने पहुंचे परन्तु वहाँ कुछ लोगो ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया. सोशल मीडिया पर चल रही चर्चाओं में अधिक संख्या में लोग इस घटना की निंदा कर रहे है और लोगो का मानना है खजानदास बहुत सुलझे हुए व्यक्ति है और समय समय पर अपने क्षेत्र के अलग अलग इलाको का दौरा करके लोगो के बीच रहते है, कई लोगो का कहना है कि इस घटना के पीछे राजनितिक साजिश हो सकती है लेकिन वह अभी जांच का विषय है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here