18.1 C
New York
Wednesday, April 24, 2019
Home Blog Page 254
महाभारत में जितने भी प्रमुख पात्र थे वे सभी देवता, गंधर्व, यक्ष, रुद्र, वसु, अप्सरा, राक्षस तथा ऋषियों के अंशावतार थे। भगवान नारायण की आज्ञानुसार ही इन्होंने धरती पर मनुष्य रूप में अवतार लिया था। महाभारत के आदिपर्व में इसका विस्तृत वर्णन किया गया है। उसके अनुसार-वसिष्ठ ऋषि के शाप व इंद्र की आज्ञा से आठों वसु शांतनु के...
हमारे हाथों की लकीरों में ऐसा ही एक योग होता है जो हमें इन सारी चीजों को एकसाथ दे सकता है। अच्छी नौकरी और बेहतरीन पर्सनलिटी हर किसी की चाहत होती है। हर कोई चाहता है कि उसके आसपास चाहने वालों की भीड़ हो, उसका व्यवक्तित्व आकर्षक हो और कैरियर में उसे मनचाही सफलता मिले।यह योग है हंस योग।...
यमुना या कालिंदी नदी को गंगा की ही तरह पवित्र माना जाता है। यमुना को श्रीकृष्ण की परम भक्त माना जाता है। गंगा को ज्ञान की प्रतीक माना जाता है तो यमुना भक्ति की। कृष्ण की भक्ति में रंगी यमुना नदी का पानी काला दिखाई देता है।यमुना नदी का उद्गम यमनोत्री से हुआ है। यमनोत्री उत्तरांचल में स्थित है।...
Nec consectetur quis, elementum eu arcu. Nunc ornare arcu lacus, quis aliquet odio bibendum non. Nam vitae libero mauris. Suspendisse vitae purus ligula. Morbi sed diam eget dolor posuere convallis vel vel nisl. Nulla sagittis efficitur ex, at sodales massa pulvinar a. Nunc quis lacinia eros. Fusce ac ipsum gravida, tristique sed felis augue dictum.
शनि को न्यायधिश माना गया है औरशनिवार शनिदेव का दिन है। इस दिन किए जाने वाले कार्य के संबंध में विशेष रूप से कई नियम बनाए गए हैं। । यह काफी कठोर ग्रह है। इसी वजह से सभी का प्रयत्न रहता है कि शनि देव किसी भी प्रकार से रुष्ट ना हो।बुजूर्गों द्वारा शनि के कोप से बचने के...
आधुनिकता के दौर में कई परिवारों में घर के अंदर भी जूते-चप्पल पहनने का चलन बढ़ गया है। इसे स्टेटस सिंबोल माना जाता है। जबकि प्राचीन काल से ही ऋषि-मुनियों और विद्वानों द्वारा घर में चरण पादुकाएं अर्थात् जूते-चप्पल नहीं पहनने की बात कही गई है। घर में जूते-चप्पल नहीं पहनना चाहिए इसकी वजह यह है कि जब हम कहीं...